01 अप्रैल 2010

"छोटा बच्चा"





मन के भीतर छिपा कहीं,
इक छोटा सा बच्चा है,
झूठ ,कपट के बीच भी जो,
अब तक थोड़ा अच्छा है,

बादल में दीवारों पर,
जो अब भी चेहरे ढूँढता है,
आईने में बिचका कर मूंह,
खुद पर आज भी हंसता है,

जिसका चंचल मन अब भी,
गुब्बारों पे ललचाता है,
परछाईं से कभी लड़ता है,
कभी उससे दौड़ लगाता है,

बारिश के पानी में, जम कर,
आज भी नाचना चाहता है,
तारों को जो चाँद के संग,
लड़ियों में बाँधना चाहता है,

इसको अच्छा लगता है,
अनजानों को दोस्त बनाना,
ढेर ढेर सी बातें करना,
खेलना, हंसना, शोर मचाना,

फूल, रंग ,जादू , तारे, और
परियों कि बातें सुनना,
झूठ मूठ के किस्से कहना,
बात बात पे रूठते रहना,

जाने क्यों रोक के रखता हूँ,
में इसको बाहर आने से,
पर्दों के पीछे रखता हूँ,
और डरता हूँ दिखलाने से,

कभी कभी लेकिन फिर भी ,
ये सबको दिख ही जाता है,
मैं अब भी कहीं से  सच्चा हूँ,
मुझको याद दिलाता है

मन के भीतर छुपा हुआ,
ये जो छोटा बच्चा है,
बड़ा कहीं न हो जाए ,
बस इस बात से डरता है

- योगेश शर्मा